Har Lafz Ko Sine Mein

हर ल्फ़्ज़ को सिने में बसालो तो बने बात
ताको में सजाने  को  ये  कूरआन  नही है

Her Lafz Ko Sine Mein Basaalo To Bane Baat
Taqo Me Mein Sajane Ko Ye Quran Nahi Hai

~Majid Deobandi

Har Lafz ko Sine Mein Basa Lo

Shahe Madina

Ajab Cheez Hai  Ihsq-E-Shahe  Madina
Yahi  To  Hai  Ishq-E-Haqiqi `ka Jeena
Hai  Ma`moor  Us  Ishq  Se   Jiska Sina
Usi  ka  Hai  Marna Usi  ka   Hai  Jeena

अजब  चीज़  है  इश्क  शाहे  मदीना
यहीं  तो  है  इश्के  हकीकी का जीना
है मामूर उस इश्क से जिसका सीना
उसीका  है  मरना   उसीका है जिना