दुनिया के सितम याद न अपनी वफ़ा याद

दुनिया के सितम याद  न   अपनी   ही   वफ़ा    याद
अब मुझको नही  कुछ  भी  मोहब्बत के सिवा  याद

छेड़ा   था    जिसे     पहले    पहल    तेरी    नज़र  ने
अबतक है  वह  एक  नग़न-ए-बेसाज़-ओ-सदा याद

क्या    लुत्फ   कि    मैं    अपना  पता   आप   बताऊँ
कीजिये  कोई  भूल  हुई   ख़ास  अपनी   अदा   याद

जब   कोई    हसीं    होता   है    सरगर्म-ए-नवाज़िश
उस  वक़्त  वह  कुछ  और  भी  आते  हैं  सिवा  याद

क्या   जानिये   क्या   हो  गया  अरबाब-ए-जुनूँ  को
मरने  कि  अदा   याद   न   जीने   कि   अदा   याद

मुद्दत     हुई    एक    हदस-ए-इश्क़    को     लेकिन
अबतक  है   तेरे   दिल  को   धड़कने कि सदा याद

~जिगर मुरदाबादी

You may also like...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *