Mohabbat Bhi Kya Ki Maine

मोहब्बत भी क्या की मेने

मोहब्बत भी क्या की मैंने समंदर की गहराइ से
जो पीता नही है खुद और बहता रहा तन्हाई में

Mohabbat Bhi Kya Ki Meine Samandar Ki Gahrai Se
Jo Peeta Nahi Khud Aur Bahta Raha Tanhai Me..

– Zuber Siraj

You may also like...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *